in

NSE और BSE क्या है | What is NSE and Bse

दोस्तों आप सभी ने शेयर मार्किट के बारे में तो सुना ही होगा। तो उससे जुड़े दो शब्द BSE और NSE यह भी सुने होंगे। दोस्तों BSE और NSE यह भारत के मुख्य और सबसे बड़े Stock Exchange हैं। शेयर मार्किट में निवेशक इन्ही दो स्टॉक एक्सचेंज के कंपनी के खरीद और बिक्री करते में हैं यह ब्रोकर द्वारा होता हैं। BSE इसका मतलब होता हैं Bomday Stock Exchange और NSE जो की National Stock Exchange यह होता हैं।

BSE इसकी स्थापना 1857 में हुई थी जो की प्रेमचंद रॉयचंद इन्होने की थी देशी शेयर और स्टॉक ब्रोकर्स एसोसिएशन की शुरुवात करके। और इसको भारत सरकार द्वारा सिक्योरिटीज कॉन्ट्रैक्ट रेगुलेशन एक्ट, 1956 के तहत इसे भारत का प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज के लिए मान्यता दी। साल 1995 से भारत में BSE के ट्रेडिंग स्टार्ट हो गई। जब 1995 यह स्टार्ट हो गया था तब निवेशकों के व्यवहार की क्षमता सिर्फ 8 मिलियन की ही दी गयी थी। Bomday Stock Exchange को (CDSL) सेंट्रल डिपॉजिटरी सर्विसेज लिमिटेड के द्वारा मार्केट डेटा सर्विस और डिपॉजिटरी सर्विसेज और रिस्क मैनेजमेंट आदि सेवाएँ प्रदान करता है। BSE यह दुनिया की स्टॉक एक्सचेंज में 12 वे स्थान पर हैं।

NSE अर्थात नेशनल स्टॉक एक्सचेंज इसकी स्थापना साल 1992 में की गई हैं और इसका मुख्यालय मुंबई में स्तित हैं। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज को साल 1992 के समय में सिक्योरिटीज कॉन्ट्रैक्ट्स एक्ट 1956 के अंतरगत कर भुगतान कंपनी इसके रूप में स्थापित किया गया हैं।

NSE और BSE में क्या अंतर हैं

– NSE और BSE यह भारत की दोनों स्टॉक एक्सचेंज हैं जहा हर दिन लाखो की संख्या में निवेशक व्यापार करते हैं।
– अगर हम बात करे टॉप एक्सचेंज के बारे में तो BSE का 10 व नंबर हैं और वही NSE का 11 नंबर आता हैं।
– NSE जिसमे 50 टॉप कंपनी आती है वही BSE में 30 कंपनी हैं।
– BSE यह भारत का सबसे पहला Stock Exchange हैं। और भारत में NSE सेकंड नंबर पर आती है।
– BSE यह एक बेंचमार्क सेंसेक्स हैं ऑफ़ इसके साथ एनएसई का बेंचमार्क इंडेक्स निफ्टी है।

Written by Jatin Tripathi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

IPS कैसे बने | How to become an IPS