in ,

वर्षा जल संचयन के तरीके और फायदे | Benefits Of Rainwater Harvesting

Varsha jal sanchayan ke labh – Benefits Of Rainwater Harvesting

जल हमारे जीवन की सबसे अहम् आवश्यकताओं में से एक है और ये जल हमें कई तरीकों से प्राप्त होता है और इसका उपयोग हम अपनी रोज़ मर्रा की ज़िन्दगी में कई तरीकों से करते हैं। पहले की अपेक्षा आज के समय में पानी की खपत ज्यादा हो गयी है और जल का उपयोग हमारे देश में ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादा होता है क्योंकि हमारा देश एक कृषि प्रधान दश है और यहाँ पानी की खपत कृषि में ज्यादा होती है। और आज के समय में तो इसका उपयोग व्यापार में भी होने लगा है। और बहुत से लोग पानी की समस्या को कम करने के लिए बोरवेल स्थापित करा रहे हैं जिससे की पानी की कमी न होने पाए लेकिन ऐसा करने से हमारे धरती का जल स्तर कम होने लगा है और बहुत से बोरबेल तो बंद भी हो चुके हैं।

और ऐसे में पानी को संरक्षित करना हमारा परम कर्त्तव्य हो गया है और आज के समय में न सिर्फ ग्रामीण क्षेत्रों में बल्कि शहरी क्षेत्रों में कई बड़े कल कारखानों में पानी का उपयोग ज्यादा होने लगा है और इसके करण पानी की किल्लत होने लगी है| और ऐसे में घरेलू और व्यावसायिक उपयोग के लिए वर्षा कर जल को संरक्षित करना हमारा सबसे अहम् कर्त्तव्य हो गया है| और ऐसे में हमें वर्षा के जल को संरक्षित करना चाहिए जिससे की आने वाले समय में हमें पानी की किल्लत न हो।

वर्षा जल संचयन क्या है? varsha jal sanchayan kya hai?

वर्षा के जल को संरक्षण करना एक ऐसी प्रक्रिया है जिससे हम वर्षा के जल को बचाकर अपने जीवन की सारी जल सम्बन्धी समस्या ख़त्म कर सकते हैं| जल संचयन या रेन वाटर हारवेस्टिंग एक ऐसी प्रक्रिया है जिससे हम वर्षा के जल को बचाकर अपने उपयोग में ला सकते हैं| वर्षा के पानी को एक निर्धारित स्थान पर जमा करके हम वर्षा के जल को संचयन कर सकते हैं। और ऐसा करने के लिए हमारे पास कई तरीके है जिनकी मदद से हम रेन वाटर हारवेस्टिंग कर सकते हैं। और इन तरीकों से हम भूजल तक वर्षा के जल को पहुंचा सकते हैं और धरती के अंदर के जल स्तर को बड़ी ही आसानी से बढ़ा सकते हैं| वर्षा के जल संचयन करना कोई आधुनिक तरीका नहीं है बल्कि ये एक सामान्य प्रक्रिया है जिससे हम वर्षा के जल को संगृहीत करके बड़ी ही आसानी से अपनी पानी की समस्या को कम कर सकते हैं।

वर्षा जल संचयन के तरीके – varsha jal sanchayan ke tarike

अब हम आपको वर्षा के जल को संगृहीत करने के लिए कुछ खास तरीकों के बारे में बताने वाले हैं जिसका उपयोग करके आप बड़ी ही आसानी से वर्षा के जल को संगृहीत करके अपनी पानी की समस्या को ख़त्म कर सकते हैं| और ये तरीके हमारे लिए काफी कारगर साबित हो रहे हैं और ऐसा करके हम वर्षा के जा को घरेलू उपयोग में भी ला सकते हैं।

1.सतह जल संग्रह सिस्टम

इसमें सबसे पहले हम बात करने जा रहे हैं सतह जल संग्रह की जिसमे हम वर्षा के जल को सतह पर ही संगृहीत करके इसको अपने उपयोग में लेट हैं और इस जल को गन्दी नालियों में जाने से रोकते हैं और इस जल संग्रहण के तरीके को सतह जल संग्रह कहा जाता है। ऐसा करने से बड़े-बड़े कुआं,नदी, ज़क तालाबों में हम वर्षा के जल को जमा करके पानी की कमी को दूर कर सकते हैं।

2. छत प्रणाली

इसके बाद हम बात करने जा रहे हैं छत पर जल को संग्रहण करने की जी हाँ अगर हम बारिश के पानी को अपने छत संगृहीत करके रख सकते हैं। इसके लिए हमें अपने छत पर खुली टंकियों को बनवाना होगा जिससे वर्षा का जल आसानी से संगृहीत हो सकता है| और ऐसा करके हम बहुत सारा जल संगृहीत करके हम वर्षा जल संग्रहण कर सकते हैं।

3. बांध बनाना

इसके बाद हम बात करने जा रहे हैं बांध की जिसमे भी ह वर्षा के जल को संगृहीत वर्षा के पानी को बहुत ही बड़े पैमाने में इकठ्ठा कर सकते हैं और गर्मियों में जब पानी की कमी हो जाती है तब हम इस पानी को अपने उपयोग में ला सकते हैं| और इसलिए हमारे भारत में कई बांधों का निर्माण किया जा रहा है।

4. भूमिगत टैंक

ये तरीका भी एक बहुत ही अच्छा तरीका है वर्षा के जल को बचने का जी हाँ इसके माध्यम से हम भूमि के अंदर पानी को बड़ी बड़ी टंकी बनाकर संरक्षित करके रख सकते हैं। और ऐसा करने से हमारे भूमिगत जल की मात्रा काफी बढ़ जाती है। और इस तरीके में हम ज्यादा से ज्यादा पानी को मिट्टी के अंदर संचय करके रख सकते हैं।

5. जल संग्रह जलाशय

यह भी एक बहुत अच्छा तरीका है वर्षा के जल को बचने का जिसमे हम बारिश के पानी को तालाबों और छोटे पानी के स्रोतों में जमा कर सकते हैं और जब हमें जरूरत हो तो हम इसको उपयोग में लाकर अपनी जल की समस्या को ख़त्म कर सकते हैं।

वर्षा जल संचयन के फायदे

अब हम आपको वर्षा के जल को संचय करने के फायदे के बारे में कुछ खास बातें बताने जा रहे हैं जिससे हमें पानी की कमी न हो और हमारा जीवन आसानी से कत सके।

1.हमारे घरेलू काम में जो पानी लगता है उसको भी हम बचा सकते हैं और पानी का नाजायज़ इस्तेमाल रोककर हम जल का संग्रह कर सकते हैं।

2.आजकल के समय में बड़े-बड़े कल कारखानो में साफ़ पानी को उपयोग में लाकर काफी मात्र में खराब कर दिया जाता है लेकिन ऐसा करने से जल की बहुत बर्बादी होती है इसके लिए हमें वर्षा के जल का संचय करना चाहिए और इसी का इस्तेमाल करना चाहिए।

3.अगर हम ज्यादा से ज्यादा वर्षा जल का संचयन करेंगे तो हमें पानी की कमी नहीं होगी और इसकी मदद से हम बोरवेल वाले क्षेत्रों में बोरवेल के पानी को सूखने से भी रोक सकते हैं और जब गर्मी का मौसम आये तो हम इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

4. रेन वाटर हारवेस्टिंग की सहायता से हम वर्षा के जल को संगृहीत करके अपनी पानी की समस्या को कम कर सकते हैं और बाढ़ की समस्या होने पर कई प्रकार से हमें आर्थिक समस्या होने लगती है और इससे हमारी आर्थिक मजबूती भी ख़राब होती है इसलिए हमें जल का संग्रह करना चाहिए।

5. आज के समय में आधुनिक टेक्नोलॉजी के कारण हर एक क्षेत्र मे बड़ी बड़ी इमारतों का निर्माण हो रहा है। और इसमें ज्यादा मात्र में लोग रह रहे हैं और इन इमारतों को बनाने के लिए हमें ज़ुयादा मात्र में पानी की जरूरत होती है ऐसे में अगर हम वर्षा जल संचयन करे तो हम बहुत सारा पानी बचा सकते है।

6. हमें ज्यादा से ज्यादा प्राकृतिक पानी को इस्तेमाल करना चैये जिससे की पानी की बचत हो सके और वर्षा पानी को शौचालय के लिए, नहाने के लिए और बर्तन धोने के लिए उपयोग में लाया जा सकता है।

कुछ सावधानियां

1.इसके लिए हमें कुछ सावधानियां भी रखना बेहद आवश्यक है और रेन वाटर हार्वेस्टिंग की मदद से जमा किए हुए पानी को इस्तेमाल करने से पहले हमें इसे अच्छे से फिल्टर करके तभी इस्तेमाल में लाना चाहिए।

2.इसके आलावा वर्षा जल को इस्तेमाल करने से पहले हमें इसको बॉईल जरूर करना चाहिए ताकि इसकी जो गन्दगी हो वो आसानी से निकल सके।

Written by Jatin Tripathi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

water conservation

जल के महत्व पर निबंध हिन्दी मे | Importance Of Water

जलवायु परिवर्तन पर निबंध, कारण, प्रभाव, नियंत्रण | Climate Change, Cause, Effect, Control